logo

  • 15
    01:58 pm
  • 01:58 pm
logo Media 24X7 News
news-details
राजनीति

दानिश अली के समर्थन में विपक्ष का प्रदर्शन, रमेश बिधूड़ी पर दंडात्मक कार्रवाई की मांग

संसद में रमेश बिधूड़ी की एक सांसद के खिलाफ इस्लामोफोबिक टिप्पणी से विपक्ष को बैठे बिठाए बीजेपी के खिलाफ एक मुद्दा मिल गया है. लोकसभा में गुरुवार शाम को बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी (BJP MP Ramesh Bidhuri) की दानिश अली पर आपत्तिजनक टिप्पणियों से विपक्ष में बहुत ही गुस्सा भरा हुआ है. बीजेपी सासंद की इस बयानबाजी की जमकर आलोचना हो रही है. इस घटना के बाद लोकसभा अध्यक्ष को पत्र लिखकर बिधूड़ी के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की मांग की गई है.

 

कांग्रेस, डीएमके और तृणमूल कांग्रेस समेत चार विपक्षी दलों ने शुक्रवार को लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को चिट्ठी लिखी थी. ये इसलिए भी अहम है क्यों कि इन तीनों दलों के लोकसभा में सबसे ज्यादा सांसद हैं.  पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी बीएसपी सांसद दानिश अली से मिलने पहुंचे इसके कुछ ही देर बाद ओम बिरला से बिधूड़ी के खिलाफ एक्शन की मांग की गई. विपक्षी दलों की मांग है कि बिधूड़ी की टिप्पणियों का मामला संसद की विशेषाधिकार समिति को भेजा जाए और उनके खिलाफ तत्काल एक्शन लिया जाए. 

 

 विपक्षी दलों ने कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की उस आपत्तिजनक टिप्पणी का हवाला दिया, जिसके बाद उनको निलंबित कर दिया गया था. उन्होंने कहा कि बीजेपी सांसद के खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है.  अधीर रंजन चौधरी ने भी स्पीकर को लिखी चिट्ठी में बिधूड़ी के अपमानजनक शब्दों के लिए दंडात्मक कार्रवाई की मांग की है. चिट्ठी में कहा गया है कि ज्यादा दुख की बात यह है कि ये आपत्तिजनक शब्द संसद के विषेश सत्र के दौरान कहे गए, जब मिशन चंद्रयान की सफलता पर चर्चा हो रही थी. यह सदन के नियमों का खुला उल्लंघन है.

 

बता दें कि इसी तरह के पत्र डीएमके नेता कनिमोझी, तृणमूल सांसद अपरूपा पोद्दार और एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने भी लिखे हैं. कनिमोझी ने चिट्ठी में कहा है कि रमेश बिधूड़ी ने अपने भाषण के दौरान कुंवर दानिश अली के खिलाफ सबसे खराब, अपमानजनक अपशब्दों का इस्तेमाल किया, जो लोकसभा के रिकॉर्ड का हिस्सा हैं.

 

You can share this post!

Comments

Leave Comments