logo

  • 04
    08:12 am
  • 08:12 am
logo Media 24X7 News
news-details
ख़बरें

फायरिंग की 3 वारदात के बाद जामिया में हलचल का माहौल, छात्र खुद ही चेक कर रहे हैं कार

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के आस-पास के क्षेत्र में लगातार 3 दिन में फायरिंग की 3 घटना हुई है. फायरिंग की इस वारदात के बाद कैंपस में दहशत का माहौल है. वहां अभी डर की स्थिति बनी हुई है और छात्रों ने खुद ही वहां पर सुरक्षा का जिम्मा संभाल लिया है.

  • 30 जनवरी को जामिया में फायरिंग की पहली घटना
  • 1 फरवरी को फायरिंग के बाद पकड़ गया शख्स

दिल्ली के जामिया और शाहीन बाग इलाके में फायरिंग के कारण दहशत का माहौल है. जामिया मिल्लिया इस्लामिया में देर रात अज्ञात लोगों ने रविवार रात हवाई फायरिंग की और फरार हो गए. फायरिंग की यह तीसरी वारदात थी. इसके बाद से स्टूडेंट ने सुरक्षा का जिम्मा खुद संभाल लिया है.

जामिया परिसर में आने-जाने वाली हर कार की तलाशी खुद स्टूडेंट ले रहे हैं. स्टूडेंट्स का कहना है कि हम अपनी सुरक्षा को लेकर एहतिहातन यह कदम उठा रहे हैं.

गेट नंबर 5 में फायरिंग

इससे पहले जामिया मिल्लिया इस्लामिया में एक बार फिर रविवार रात को फायरिंग की घटना हुई. यह फायरिंग जामिया के गेट नंबर पांच पर हुई है. फायरिंग के दौरान दो संदिग्ध भी देखे गए.

रात में फायरिंग की सूचना मिलते ही जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बाहर लोग जुटने लगे और थोड़ी देर में प्रदर्शन शुरू हो गया. पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) ने बताया कि जामिया नगर के एसएचओ घटनास्थल का जायजा लिया. इस इलाके में फायरिंग की यह तीसरी घटना है.

फायरिंग की इस घटना के बाद जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी ने बताया कि जामिया मिल्लिया इस्लामिया के गेट नंबर 5 फायरिंग हुई है. फायरिंग करने के बाद वहां से भागते दो संदिग्ध भी देखे गए.

पुलिस ने दर्ज की शिकायत

रिपोर्ट के मुताबिक इन संदिग्धों में से एक शख्स ने लाल रंग की जैकेट पहन रखा था और लाल रंग की स्कूटी चला रहा था. स्कूटी का नंबर 1532 बताया जा रहा है.

हालांकि फायरिंग की नई इस घटना में किसी के घायल होने की कोई सूचना नहीं हैं. फायरिंग की घटना के बाद जामिया नगर थाने के बाहर भी जामिया के छात्र एकत्रित हो गए. इस सिलसिल में पुलिस ने शिकायत दर्ज कर ली है.

अतिरिक्त डीसीपी (दक्षिण-पूर्व) कुमार ज्ञानेश का कहना है कि जामिया नगर एसएचओ ने अपनी टीम के साथ उन्होंने जगह-जगह तलाशी ली है. वहां कोई खाली कारतूस नहीं मिला है.

कुमार ज्ञानेश ने बताया कि उन वाहनों के बारे में अलग-अलग बात निकल कर आ रही है जिन पर संदिग्ध सवार थे. कुछ ने कहा कि संदिग्ध स्कूटर पर सवार थे और कई अन्य का कहना है कि वो चार पहिया वाहन से आए थे. इस दौरान छात्रों समेत कई लोग थाने के बाहर जमा हो गए. हम जांच करेंगे और कानून के अनुसार कार्रवाई करेंगे.

You can share this post!

Comments

Leave Comments