logo

  • 22
    09:02 am
  • 09:02 am
logo Media 24X7 News
news-details
तकनीकी

तीन महीने, तीन पुल...देखें चीन बॉर्डर पर बीआरओ के कमाल की एक्सक्लूसिव तस्वीरें

भारत-चीन एलएसी के पास तनाव जारी है. इसी बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लद्दाख में सामरिक जगह नीमू पोस्ट का दौरा किया. आजतक की टीम उस जगह पहुंची है, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दौरा किया था. वहां देखा कि एलएसी के पास सामरिक पुल और सड़कों को बनाने का काम युद्धस्तर पर चल रहा है. लेह से 35 किलोमीटर दूर नीमू में आजतक की टीम पहुंची.

भारत की ताकत और रणनीति ने लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर चीन को अपने कदम पीछे खींचने पर मजबूर कर दिया है.

एलएसी के पास सामरिक पुल और सड़कों को बनाने का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है. सीमा सड़क संगठन यानी बीआरओ तेजी से सामरिक सड़कों और पुल को बना रहा है. 3 साल में 40 पुलों पर काम चल रहा है, जिसमें से 20 पुल बनकर तैयार हैं. 2022 तक 66 सामरिक सड़कें बनाने का भी लक्ष्य है.

पुराने पुल की जगह नए मजबूत पुल बनाए जा रहे है, जिससे सेना के भारी भरकम ट्रक और टैंक आसानी से गुजर सके. इसके साथ ही आजतक की टीम दुनिया की सबसे ऊंची पक्की रोड खरदुंग ला भी पहुंची. यह हाईवे सियाचिन और दौलत बेग ओल्डी को जोड़ती है.

दरअसल, भारत और चीन के बीच टकराव की सबसे बड़ी वजह भारत की ओर से तेजी से सामरिक सड़कों और पुलों का निर्माण करना है. चीन घबराया हुआ है कि भारतीय सेना इतनी तेजी से सामरिक सड़कें और पुल क्यों बना रही है. सड़क-पुल निर्माण के काम में बीआरओ अहम भूमिका निभा रहा है.

आजतक की टीम नीमू-दारका सड़क पर भी पहुंची. इस सड़क का तेजी से निर्माण किया जा रहा है. सामरिक रूप से यह सड़क काफी अहम है और इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वकांक्षी परियोजना में से एक माना जाता है. इस नई सड़क के बन जाने से सियाचिन तक भारतीय सैनिकों की आवाजाही बिना पाकिस्तान की नजर में आए हो सकेगी.

इसके बाद आजतक की टीम नीमू-खरदुंग ला के उस पुल पर पहुंची, जिसका बीआरओ ने रिकॉर्ड तीन महीने में काम पूरा किया है. यहां पर पुराना लोहे का पुल था, जिसे हटाकर नया पुल बनाया गया है, ताकि सेना के भारी वाहनों को सियाचिन या दौलत बेग ओल्डी तक पहुंचने में कोई दिक्कत न हो.

 

You can share this post!

Comments

Leave Comments